शुक्रवार, 23 जुलाई 2010

सुख और खुशी का अंतर

बहुधा सुख और खुशी शब्दों को एक दूसरे के पर्याय के रूप में जाना जाता है, जब कि वास्तव में सुख धरातलीय स्थायी अनुभूति है और खुशी क्षणिक हवा के झोंके की तरह तिरोहितेय. सुख जीवन के यथार्थ से सम्बन्ध रखता है, और कोई खुशी काल्पनिक उडान हो सकती है. प्रथम एक अनुभव होता है किन्तु द्वितीय एक अनुभूति. सुख निर्मल जल की झील है तो खुशी एक मृग मरीचिका सिद्ध हो सकती है.

अधिकाँश मनुष्य खुशियों की खोज में और उन्हें पाने में अपना जीवन लगा देते हैं अतः क्षण-प्रतिक्षण खुशियाँ खोजते अथवा पाते हुए एक अनंत यात्रा पर चलते रहते हैं, विराम अथवा विश्राम उन्हें प्राप्त नहीं होता. जो सुख पा लेता है, उसे विश्राम भी स्वतः प्राप्त हो जाता है क्योंकि उसे आगे कुछ खोजने की लालसा अथवा पाने की इच्छा नहीं रहती. इससे उसे स्थायी खुशी प्राप्त होती है. इस प्रकार, सुख से खुशियाँ निश्चित रूप से प्राप्त होती हैं, किन्तु खुशियों से सुख प्राप्ति सुनिश्चित नहीं होती.

खुशी का सुख से भिन्न होने का अर्थ यह नहीं है जीवन में खुशी का कोई महत्व नहीं है. प्रत्येक खुशी मनुष्य के मानसिक तथा शारीरिक तनाव को दूर करती है जिस से उसे स्वास्थ लाभ होता है. यदि कोई मनुष्य क्षण प्रति क्षण खुशी पाता रहे तो उसे अन्य किसी सुख की आवश्यकता ही नहीं रहती. सतत खुशियों का संचयन भी सुख ही होता है. अच्छा स्वास्थ एक सुख अवश्य है, किन्तु सुख स्वास्थ सुनिश्चित नहीं करता, जब कि प्रत्येक खुशी स्वास्थप्रद होती है.

मनुष्य को खुशी अनेक प्रकार से प्राप्त होती हैं - यथा विचित्र वस्तु देखकर, किसी का असामान्य व्यवहार देखकर, कल्पना करके अथवा काल्पनिक कथा जान कर, मनोरंजक चुटकला आदि सुनकर, आदि. किन्तु इन सबसे सुख प्राप्त नहीं होता. वस्तुतः खुशी अपने स्रोत में उपस्थित नहीं होती, इसे मनुष्य का मस्तिष्क स्रोत के किसी अवयव में खोज लेता है. इस खोज का स्रोत की वास्तविकता से कोई सम्बन्ध नहीं होता. उदाहरण के लिए मैथुन क्रिया खुशी के सर्वोच्च साधन मानी जाती है, किन्तु इसका यथार्थ स्त्री का गर्भ गृहण कराना भी होता है जो अनेक परिस्थितियों में अवांछित तथा दुखमय हो सकता है.

Pleasureनित्य प्रति देखी जाने वाली एवं उपयोगी वस्तुएं हमें उतनी खुशी प्रदान नहीं कर पाती जितनी कि कोई नवीन वस्तु प्रदान करती है, चाहे उसका हमारे जीवन में कोई उपयोग न हो. इसका अर्थ यह भी है कि हम खुशियों के लिए अपने जीवन के यथार्थों से दूर भागते हैं. स्त्री के मुख मंडल पर काला तिल, यद्यपि एक त्वचा विकार होता है, किन्तु मनुष्य जाति इसे सौन्दय संवर्धक मानता है और इसे देख कर खुश होती है. इस प्रकार हमारी अनेक खुशियाँ हमारे अतार्किक होने के कारण प्राप्त होती हैं.