सोमवार, 6 सितंबर 2010

जिज्ञासा - समग्र जीवन की उत्प्रेरक

जिज्ञासा, अर्थात कुछ नया जानने की उत्कंठा, मनुष्य जाति का वह धर्म है जिसने इस जाति को इस धरा की सर्वोत्कृष्ट जाति बनाया है. यही मनुष्य को जीवंत बनाती है. इसी के कारण विशिष्ट वस्तुओं में हमारी रूचि जागृत होती है जिससे हमें प्रसन्नता प्राप्त होती है. यद्यपि जिज्ञासा जीवन की अन्तः प्रेरणा होती है, यह प्रतिकूल परिस्थितियों में मृतप्रायः हो सकती है तथा इसे प्रयासों से संवर्धित किया जा सकता है.




अपने चारों ओर के विश्व में अपनी जिज्ञासा जागृत करने की कुंजी हमारे द्वारा दृश्यों को देखने, ध्वनियों को श्रवन करने, गंधों को सूंघने, स्पर्श करने, स्वादों को चखने, आदि में निष्क्रिय रहने की अपेक्षा सक्रिय भूमिका है. जब हम किसी गली से होकर गुजरते हैं तो हमें अनेक वस्तुएं स्वतः दिखाई देती हैं किन्तु हम उनमें से कुछ वस्तुओं में ही रूचि लेते हैं. बाद में यदि उक्त दृश्यावली को स्मृत करें तो केवल हमरे द्वारा रूचि ली गयी वस्तुएं ही हमारे स्मरण में आती हैं जैसे कि अन्य वस्तुएं वहां उपस्थित ही न हों. इससे दो तथ्य उभरते हैं - हमारा मस्तिष्क उन्ही वस्तुओं को स्मृत रखता है जिनमें हम सक्रिय रूचि लेते हैं तथा हममें से प्रत्येक का विश्व वहीं तक सीमित होता है जहां तक हमारी रूचि का विस्तार होता है. अतः हमारी रूचि जो जिज्ञासा से उगती है, हमारे मस्तिष्क को सक्रिय बनाती है, और हमारी जिज्ञासा ही हमारे विश्व स्वरुप का निर्माण करती है. 


जिज्ञासा ऊर्जित और संवर्धित करने के कुछ उपाय निम्नांकित हैं, अपनाईये और जीवंत बनिए. केवल जीवित होना जीवन के लिए पर्याप्त नहीं है. 


जीवन के उत्कर्ष 
मुझे अभी तक अपनी प्रथम पुत्री के जन्म के समय उसका देखा जाना स्मृत है क्योंकि वह मेरे जीवन का उत्कर्ष भरा क्षण था, जबकि उसके बाद की अनेक महत्वपूर्ण घटनाएं और दृश्य विस्मृत से हो गए हैं. ऐसे आह्लाद भरे क्षणों के अतिरिक्त हमारी चिंताएं, अनिश्चितताएं, आदि यद्यपि ऋणात्मक मानी जाती हैं किन्तु ये भी जीवन में उत्कर्ष के क्षण उत्पन्न करती हैं जिनसे हम अपने चारों ओर की वस्तुओं और घटनाओं के बारे में अधिक सचेत होते हैं. दूसरे शब्दों में, सहज जीवन के ये ऋणात्मक भाव भी हमारे मस्तिष्क को अधिक सक्रिय कर हमें जिज्ञासु बना सकते हैं. बस आवश्यकता होती है अपने जीवन में उत्कर्ष के क्षणों का सदुपयोग करने की, जागृत और सचेत होकर अपने चारों ओर की वस्तुओं, घटनाओं और परिस्थितियों के प्रति, जिनमें ही  उत्कर्ष के पाल पाए जा सकते हैं.  


जीवन के किनारे 
जैसे नदी की मुख्य धारा का जल प्रवाह तो सभी का ध्यान आकृष्ट करता है किन्तु किनारे पर तैरते कूड़े-करकट के पुंज नगण्य समझ लिए जाते हैं. ध्यान दें तो इनमें भी अनेक कलात्मक दृश्य उजागर होते हैं. इसी प्रकार, अपनी मुख्य जीवन धारा पर तो हम सभी ध्यान देते हैं, किन्तु जीवन के किनारे, अर्थात छोटी-छोटी घटनाएँ, वस्तुएं, आदि, हमारी यात्रा में बिना ध्यान आकृष्ट किये ही पीछे छूटते जाते हैं. खोजने पर ज्ञात होता है कि इन नगण्य वस्तुओं, घटनाओं, आदि  में भी बहुत कुछ जानने के लिए होता है. यह समय का नष्ट करना न होकर, जीवन को समग्र रूप में देखना होता है. किसी वृहत उपन्यास की मूल कथा कुछ शब्दों में कही जा सकती है किन्तु इससे श्रोताओं को मंत्रमुग्ध नहीं किया जा सकता, जिसके लिए कथा के ताने-बाने बारीकी से उभारे जाते हैं. श्रोताओं के बांधे रखने में ही कथा की सार्थकता निहित होती है. एक बार केरल की यात्रा में कोचीन-त्रिवेंदृम मुख्य मार्ग पर गाडी सरपट दौड़ी जा रही थी. यात्रा समाप्ति की शीघ्रता पर सभी का ध्यान था जिससे सड़क पर आते-जाते अन्य वाहन ही यात्रा की मुख्य धारा प्रतीत हो रहे थे. किन्तु मार्ग से हटकर खजूर वृक्षों के आलिंगनों में छोटे-छोटे चित्रात्मक भवन और उनके आसपास खेलते हुए बच्चे मुझे आह्लादित कर रहे थे जिनका यात्रा से कोई सीधा सम्बन्ध नहीं था. स्वयं यात्रा का कोई महत्व नहीं होता यदि स्थानीय जीवन शैली और पारिस्थितिकी को आत्मसात न किया जाए.     

पुनरावलोकन 
हमें बहुधा प्रतीत होता है कि परिचित व्यक्तियों और वस्तुओं से हम पूरी तरह परिचित होते हैं, जबकि वस्तुतः ऐसा नहीं होता. प्रत्येक परिचित वस्तु अथवा व्यक्ति में भी अनाकानेक हमारे लिए अपरिचित तथ्य विद्यमान होते हैं जिन्हें बार-बार पुनरावलोकन से पाया जा सकता है. परिचय तभी तो पूर्ण हो पाता है. जिज्ञासा प्रवृत्ति जागृत बनाए रखने के लिए जब भी किसी परिचित वस्तु अथवा व्यक्ति को देखें उसमें कुछ नया खोजें, कुछ नया जानने का प्रयास करें. विश्वविद्यालयी जीवन काल में एक मित्र था जिसने शर्मीला टगोर अभिनीत एक फिल्म १८ बार देखी थी और उसका कहना था कि तब भी बहुत कुछ देखने योग्य शेष रह गया था. ऐसे कुछ अब्यासों के बाद उसकी आदत बन गयी थी कि वह फिल्म को एक बार देख कर ही उसके सूक्ष्मतम तथ्यों को आत्मसात कर लेता था और उनको बयान कर सकता था.  

काम-काज में खेल
प्रत्येक कार्य करते हुए उसे खेल का रूप देने की संभावना होती है. किसी कार्य हेतु बैठे हुए यदा-कदा अपनी परछाईं को सूक्षमता से देखिये, इसमें आनंद मिलेगा जो कार्य को बोझिल नहीं होने देगा. इस प्रकार का आनंद कार्य से विमुख नहीं करता, उसे करने में रूचि बनाए रखता है जिससे कार्य-कौशल का संवर्धन होता है. इस प्रकार के आनंद और कार्य-कौशल का मूल स्रोत जिज्ञासा होती है - जो कुछ अप्रयासित हो रहा होता है उसके प्रति. रुड़की विश्वविद्यालय में इंजीनियरिंग का छात्र होने के समय मैं अपने एक अवकाश हेतु आवेदन में लिखा था, "... मैं कक्षा में उपस्थित रहने का आनंद नहीं ले सकूंगा..." इस पर कक्षाध्यापक ने आपत्ति की थी तो मैंने जिद करके कहा था, "मुझे कक्षा में अपने मित्रों के साथ उपस्थित रहने और शिक्षा गृहण करने में वास्तव में आनंद आता है इसलिए आवेदन में ऐसा लिखा जाना मेरी विवशता है....." यह विषय चर्चित हुआ और छात्र जीवन को एक नया दर्शन मिला.    .


My House, My Rulesरूचि विविधता 
एक-रसता जिज्ञासा का हनन करती है इसलिए निष्क्रियता को जन्म देती है. इसके विपरीत, विविधता जिज्ञासा और सक्रियता विकास में उत्प्रेरक होती है. मैं १५ प्रथक विषयों पर ब्लॉग लिखता हूँ जिसके लिए इन विविध विषयों का अध्ययन करता हूँ और लगातार १०-१२ घंटे अपनी मेज पर बैठा इन कार्यों से कभी ऊबता नहीं हूँ - केवल विषयों की विविधता के कारण. इससे मेरी सम्बद्ध विषयों में जिज्ञासा बनी रहती है और मैं अपने ज्ञान संवर्धन हेतु सदैव प्रयासरत रहता हूँ - एक नव-शिक्षु की तरह.